Online Astrologer
Ajay Kumar Chaubey
New

Expertise : Vedic Astrology , KP , Naadi Jyotish

Experience : 15 years

Languages : English, Hindi

Rates

Order Report : Starting @ 250*


Availability

MON-SUN :: 07:05PM - 11:00PM

Myself ajay kumar chaubey  age 40 from gorakhpur born in brahman family . From child hood  i have spiritual inclination . I am regularly doing gayatri shadhana in brahmmuhurt as i love meditation so i do meditation also .

I love to sick knowledge. I have studies msc physics , mba in marketing amd m.ed. I love knowledge I have taken vedic , kp and naadi jyotish. I like to guide people about their career , love , marriage , medical astrology . . this provide me immense pleasure and happiness . 
I WRITE JYOTISH article in various news paper such as vedic express and karm yug

अपनी   अन्तः  शक्ति के जागरण  का समय  है   नवरात्री   
नवरात्रि का सदुपयोग  अपनी अन्तः ऊर्जा के उर्ध्व गमन के लिए हमारे देश में हजारो वर्षो से किया जा रहाहै।  भारत तपस्वियों और ऋषियों की भूमि है।  यहाँ की प्राचीन परंपरा में मानव को देव के रूप में  परिवर्तित  करने के के लिए सनातन परम्परा में  नवरात्रि का विशेष महत्व   है  जिससे उसकी ऊर्जा का ऊर्ध्वगमन हो सके। नव  दिनों  का समय बहुत ही महत्वपूर्ण है अगर इसका सदुपयोग अच्छे से कर दिया जाए तो मानव  के जीवन में सतत और जीवन में अत्यधिक उन्नति होगी। हमें इस समय का सदुपयोग , अपने अंदर ऊर्जा को जगाकर अपने जीवन को ऊंचा उठा सकता है।  इसका जीवन  में बहुत प्रभाव  पड़ता है। हर व्यक्ति को  यह विशिष्ट काल का सदुपयोग अपने लिए जरूर करना चाहिये जिससे उसकी आत्म  शक्ति बढ़ सके और वह अपने जीवनमें   उन्नति के संग्राम में विजय हो सके।  समस्या इस बात   की है हम सब इस पर ध्यान नहीं देते है। हमारे पास संसार के समस्त कार्यो के लिए समय हैं और साधन है पर स्वयं के लिए बिल्कुल समय नहीं है यही कारण है की आज हमें अपने लिए सघर्ष करना पड़ता है।उपासना से बढकर कोई भी उपाय नहीं है।  उपासना मनुष्य की आत्म  शक्ति को न सिर्फ जागृत करती बल्कि  उसे  देवत्व      की तरफ उन्मुख करती है। 
व्यक्ति मानव से महा मानव की यात्रा प्रारम्भ  करता है।  हम सबको अपने लिए नियमित उपासना का क्रम अपने जीवन में बनाये रखना चाहिए। इन दिनों आध्यात्मिक ऊर्ज घनीभूत रहती है जिससे कम  अभ्यास के द्वारा अत्यधिक लाभ लिया जा सकता हैं।  प्रायः साधक गायत्री मंत्रो का २४००० मंत्रो का लघुअनुष्ठान इन दिनों करते है यु तो यह लघु अनुष्ठान है पर एक साथ करोङो साधको के जप के कारण अत्याधिक लाभ मिलता है। ॐ भूर् भुवः स्वः।
तत् सवितुर्वरेण्यं।
भर्गो देवस्य धीमहि।
धियो यो नः प्रचोदयात् ॥
हिन्दी में भावार्थ
उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अपनी अन्तरात्मा में धारण करें। वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे
।माँ का शक्ति के रूप में उपासना से अथधिक लाभ होता है।  हमारे अंदर के शुक्ष्म चक्र जागृत होते है जो हमें अपने जीवन में आगे बढ़ाते है यह बात यहाँ समझने की है माँ सृजन कराती है देवता का और शहर  कराती महिषासुर का हमारे अंदर काम क्रोध लोभ मोह और अहंकार के षत रिपु है यही हमारे शत्रु है हर एक मनुष्य की समस्याओ के मूल में यही है।  हमें पूरी शक्ति से इन शत्रुओ पर विजय प्राप्त करनी चाहिए।
आरोग्य सुख दिलाने वाला देवी का मंत्र
यदि आपको इस कोरोना काल में अपनी सेहत को लेकर हर समय चिंता बनी रहती है या फिर आप किसी बीमारी से लंबे समय से जूझ रहे हैं और तमाम तरह के ईलाज के बाद आप उससे मुक्त नहीं हो पाए हैं तो इस नवरात्रि देवी भगवती के इस मंत्र की 11 माला जप नवरात्रि के नौ दिनों तक विशेष रूप से करें
ॐ देहि सौभग्यमारोग्यम् देहि देवि परं सुखम्।
रूपं देहि जयं देहि यषो देहि द्विषो जहि।।
संकट से मुक्ति दिलाने वाला देवी मंत्र
यदि आपको लगता है कि आपके जीवन में हर समय अकारण ही कोई न कोई संकट आ खड़ा होता है तो आप उसे दूर करने के लिए इस नवरात्रि माता के इस मंत्र का विशेष रूप से जाप करें.ॐ सर्वस्वरूपे सर्वेषे सर्वशक्तिसमन्विते।
भयेभ्यस्त्राहि नौ दुर्गे देवि नमोस्तुते।।
पैसोंं की किल्लत दूर कराने वाला देवी मंत्र
यदि आप इन दिनों बड़ी आर्थिक दिक्कत में हैं और कठिन परिश्रम करने के बाद भी आपकी जरूरतें नहीं पूरी हो पा रही हैं तो मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए इस मंत्र का नवरात्रि के नौ दिनों तक विशेष रूप से मंत्र जाप करें.
ॐ सर्वबाधा विनिर्मुक्तो, धनधान्यसमन्विता:।
मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय:।।
विद्या-बुद्धि का आशीर्वाद दिलाने वाला देवी मंत्र
यदि आपको लगता है​ कि आपका बच्चा पढ़ाई में लगातार पिछड़ता जा रहा है और उसका मन पढ़ाई में नहीं लगता है तो उसे देवी सरस्वती के साथ देवी दुर्गा का भी आशीर्वाद दिलाने के लिए नीचे दिये गये मंत्र का प्रतिदिन एक माला जप जरूर करवाएं.
ॐ धीं श्रीं हृीं क्लीं।।
शत्रु पर विजय दिलाने वाला देवी मंत्र
यदि आपको हर समय किसी ज्ञात या अज्ञात शत्रु का खतरा बना रहता है तो आपको इस नवरात्रि शक्ति की साधना करते समय नीचे दिये गये मंत्र का पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ जाप करना चाहिए.
ॐ ह्लीं बगलामुखि सर्वदुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तम्भय जिह्वां कीलय बुद्धिं विनाशय ह्रीं ॐ स्वाहा।।
आप सभी इन नव दिनों में मेंलगाकर माकी उपासना करे जिससे  आपको देवत्व  की जागृति में आसानी हो और अप्प अपने मानव जीवन के परम उद्देश्य मनुष्य में देवत्य का उदय       और धरती     पर स्वर्ग   का अवतरण   को सार्थक बना सके  हम सबका     यही उद्देश्य होना चाहिए की अपने आपको ऊँचा उठाये जिससे अपने जीवन के परम लक्ष्य ईश्वर की प्राप्ति  हो सके  । 
पंडित अजय कुमार चौबे (MSC  PHYSICS  , MB A ,M ED  ASTRO  MEDITATION  EXPERT  15  YEARS  GAYATRI  SHADHAK  AND  GEETA  EXPERT )
 
गोरखपुर 

 

2021-10-11

Jagriti Singh


Got my answers. and they resonate much with what I am thinking. thanks for seconding my understanding.

chandrakant pokalwar


thanq sirji please write mantr

chandrakant pokalwar


vary good astrloger

Aditi Arya


brilliant analysis, never experience such detailed prediction.thanks a lot

Shivangi Joshi


very nice and in depth analysis by the astrologer. highly recommend the astrologer.

Malini Shukla


thanks sir for your valuable guidance

Arya Pillai


Ok ok